logo
add image

पत्नी का आशिक निकला किराना व्यवसायी का हत्यारा

पत्नी का आशिक निकला किराना व्यवसायी का हत्यारा

जौनपुर। काशी लाइव
          तहसील क्षेत्र के थाना खुटहन क्षेत्र स्थित महमदपुर गांव में हुईं अशोक बरनवाल हत्या काण्ड का खुलासा पुलिस ने 24 घन्टे के अन्दर कर दिया। पुलिस के अनुसार अशोक कुमार की पत्नी का आशिक ही हत्यरा है। पुलिस ने उसे गिरफ्तार करके जेल भेज दिया है। 
      खुटहन इंस्पेक्टर जगदीश कुशवाहा ने बताया कि हत्याकांड की जानकारी जब शनिवार की  सुबह हुई तो सूचना पर थाना प्रभारी सहित  एसपी,सीटी एएसपी भी पहुंचे और डॉग स्क्वॉड टीम को लगाया। मृतक अशोक की पत्नी रिशू ने अज्ञात पर हत्या का केस दर्ज कराया था। पुलिस संदेह के आधार पर धटना के दिन ही पत्नी सहित तीन लोगों को हिरासत में लेकर पूंछ-ताछ किया । पुलिस के अनुसार व्यवसायी की हत्या उसकी पत्नी के आशिक ने ही रास्ते से हटाने के लिए किया है। पुलिस के मुताबिक महिला निर्दोष पायी गयी है। उसे ऐसी घटना को कोई खबर नहीं थी। आरोपित के खिलाफ हत्या सहित विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया गया। 
          इंस्पेक्टर जगदीश कुशवाहा ने शुक्रवार की शाम को हरीप्रसाद ने अशोक को एक बारात में शामिल होने के लिए अपने साथ लेकर गया। अशोक के पास निजी बोलेरो गाड़ी भी है। जिसे भाड़े पर तय कर दोनों बारात के नाम पर निकल गए। सुबह महमदपुर गांव के खेत में उसी की बोलेरो गाड़ी में सिर कूचकर हत्या की गयी लाश बरामद हुई। शव कब्जे में लेने के बाद से ही पुलिस की शक की सूई प्रेम प्रपंच पर  टिक गई। आस-पास के लोगों से पुष्टि होते ही पुलिस ने मृतक की पत्नी और उसके आशिक को हिरासत में ले लिया।थाने पर पूछताछ में हरिप्रसाद पुलिस को पहले तो गुमराह किया। लेकिन जब पुलिस ने  सर्विलांस का सहारा लिया  तो सारी पिक्चर सामने आ गयी । दोनों का एक साथ लोकेशन खेतासराय तथा उसके बाद जिला मुख्यालय फिर वहां से वापस लौटने का मिला। इसके बाद  पुलिस ने जैसे ही थर्ड डिग्री का प्रयोग किया तो वह टूट गया। उसने मृतक की पत्नी से अपने अंतरंग संबंधों को स्वीकारते हुए बताया कि अशोक को हमारे संबंधों की खबर  लग जाने से वह हम दोनों के बीच दीवार बन गया था। उसे रास्ते से हटाने की प्लान बनाया और  उसकी बोलेरो भाड़े पर तय किया । वाहन अशोक खुद चलाता था। उसे साथ लेकर खेतासराय होते हुए जिला मुख्यालय तक गया। रास्ते में अशोक को जमकर शराब पिलाई। वहीं एक ढाबे पर दोनों ने खाना भी खाया। जहां से वापस लौटते समय आधी रात बीत चुकी थी। वाहन हरिप्रसाद चलाते हुए वापस घर की तरफ लौट रहा था। जब वह मरहट पुलिया के पास पहुंचा तो दीर्घ शंका के बहाने गाड़ी वहीं खड़ी कर खेत की तरफ चला गया। नशे में धुत अशोक बीच वाली सीट पर बेधड़क सो गया। उसी समय हरिप्रसाद गाड़ी में रखे साउंड बाक्स से उसके सिर पर कई वार कर दिए। जिससे अशोक की मौत हो गई। हरिप्रसाद गाड़ी आगे बढ़ाकर सुनसान स्थल महमदपुर गांव में लाकर एक खेत में खड़ी कर पैदल ही घर चला गया। घटना की भनक मृतक की पत्नी को भी नहीं लग सकी थी। 
          बता दें कि मूल रूप से खेतासराय कस्बा निवासी अशोक उर्फ दीपक बरनवाल (38) लगभग एक दशक पूर्व तिघरा बाजार में मकान खरीदकर परिवार के साथ रह रहा था। उसी मकान में वह खुद जनरल स्टोर तथा उसकी पत्नी रिशू ब्यूटी पार्लर की दुकान चलाती है। उसके तीन बच्चे एक 12 साल, एक 10 साल और एक बेटी चार साल की साथ में रहते है। बाजार में  ब्यूटीपार्लर के बगल इसी थाना क्षेत्र के गौसपुर बाजार निवासी हरीप्रसाद उर्फ बचऊ बरनवाल बिल्डिंग मैटेरियल की दुकान चलाता है । कुछ वर्ष पूर्व से ही ब्यूटी पार्लर संचालिका और हरीप्रसाद की आंखें चार हो गयी। दोनों का प्रेम परवान चढ़ गया।  इसकी भनक जब पति को लगी तो वह  विरोध करने लगा जो हरिप्रसाद को खटकने लगा। इसी महिला के  चक्कर में हरिप्रसाद ने अपनी विवाहिता पत्नी से भी किनारा कर लिया था।



footer
Top