logo
add image

ये क्या हो रहा, बीएचयू में निगेटिव, प्राईवेट लैब में पाजिटिव आ गए पीआरओ

ये क्या हो रहा, बीएचयू में निगेटिव, प्राईवेट लैब में पाजिटिव आ गए पीआरओ

वाराणसी। काशीलाइव
कोरोना मरीजों को लेकर बीएचयू की साख को लगातार बट्टा लग रहा है। कोरोनाकाल में बीएचयूू प्रशासन की ओर से बरती जा रही लापरवाही का खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है। एक और मामले का खुलासा यह बताने के लिए काफी है कि बीएचयू में जांच से लेकर उपचार तक के नाम पर किस तरह लापरवाही हो रही है। हालत यह है कि एडीजी  जोन के पीआरओ की कोविड रिपोर्ट जो बीएचयू ने थमाई वह निगेटिव थी लेकिन प्राईवेट लैब में जो रिपोर्ट आई वह पाजिटिव निकली। एडीजी के पीआरओ तो अपने स्वास्थ्य को लेकर गंभीर थे इसलिए उन्होंने बीएचयू से मिली रिपोर्ट के बाद भी प्राईवेट लैब में जांच कराई और सच सामने आ गया। अगर पीआरओ बीएचयू की कोविड रिपोर्ट मानकर आफिस जाते तो आज एडीजी जोन के कार्यालय में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ जाती।

दरअसल, एडीजी बृजभूषण शर्मा के पीआरओ की तबीयत कुछ दिनों पहले नासाज हुई। कोरोना की चपेट में आने की आशंका पर उन्होंने बीएचयू में बीते दिनों जांच कराई। दो दिन बाद जो रिपोर्ट मिली उसके अनुसार वह निगेटिव थे। कोरोना के लक्षण दिखने के बाद भी रिपोर्ट निगेटिव आने पर इंस्पेक्टर का मन नहीं माना और उन्होंने प्राईवेट लैब में अपनी जांच कराई। दो दिन वहां से मिली रिपोर्ट में वह पाजिटिव निकले। फिलहाल एडीजी के पीआरओ आइसोलेट हैं।
 



footer
Top