logo
add image

पीएम ने काशीवासियों को भेंट की दीपावली ‘गिफ्ट’, दी 6 अरब की सौगातें

पीएम ने काशीवासियों को भेंट की दीपावली ‘गिफ्ट’, दी 6 अरब की सौगातें

बनारस के सांसद ने 30 विकास परियोजनाओं का किया लोकार्पण एवं शिलान्यास

वाराणसी। काशीलाइव 

वाराणसी की गौरवमयी विकास यात्रा में सोमवार काशीवासियों को बेहद खास रहा। दीपावली से पूर्व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 614 करोड़ की 30 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास कर लोगों को दीपावली की सौगात दी। उन्होंने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि वाराणसी में विकास के जो कार्य हो रहे हैं इसका लाभ बनारस के लोगों को मिल रहा है और इसमें बाबा काशी विश्वनाथ की कृपा है। जिसमें 219.89 करोड़ रुपये की 16 परियोजनाओं का लोकार्पण तथा 394.11 करोड़ रूपये की 14 परियोजनाओं का शिलान्यास हुआ।

यह भी पढ़ें: मुर्गी के साथ पति करता था सेक्स, पत्नी बनाती थी वीडियो, जानिए कोर्ट ने क्या सजा दी

लोकार्पित हुई परियोजनाओं में पर्यटन विकास हेतु पिंडरा तहसील के प्रसिद्ध नकटी भवानी मंदिर का भव्य गेट व बाउंड्री वॉल निर्माण है। गंगा एक्शन प्लान के तहत पूर्व में बने भगवानपुर व दीनापुर में बने एसटीपी, कोनिया एमपीएस व घाट पंपिंग स्टेशनों के नवीनीकरण व पुनवृद्धि कार्य परियोजना लागत 19.08 करोड़ है, इससे पंपिंग स्टेशन एवं एसटीपी 15 वर्षों से अधिक समय तक पूर्ण क्षमता से कार्य करेंगे। टॉउनहाल पर बन रही अंडर ग्राउंड पार्किंग निर्माण में गुजर रहे पुरानी सीवर नाले के शिफ्टिंग हुए कार्य परियोजना का लोकार्पण हुआ। केंद्रीय कारागार वाराणसी की चहारदीवारी का निर्माण 1.99 करोड़ रुपये की निर्मित है। श्री लाल बहादुर शास्त्री अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा पर दो पैसेंजर बोर्डिंग ब्रिज और बन गए, जिनका लागत 9 करोड़ रूपये का है का लोकार्पण हुआ। इससे यात्रियों को आगमन एवं प्रस्थान में आसानी होगी, कम पैदल चलना पड़ेगा। सर्किट हाउस में भव्य नवीन सभागार निर्माण कार्य भी लोकार्पण हुआ। नीति आयोग द्वारा मॉडल विकास खंड में चयनित सेवापुरी ब्लाक के 16 ग्रामों में जो संपर्क मार्ग से जुड़े नहीं थे उनमें सड़क निर्माण कर संपर्क मार्ग से जोड़ा गया, जिस पर 4.58 करोड़ रुपए व्यय हुआ। श्री लाल बहादुर शास्त्री चिकित्सालय रामनगर में मरीजों हेतु माड्यूलर किचन, मैकेनाइज्ड लॉन्ड्री, आवास आदि के कार्य पूर्ण कर ऊंची करण परियोजना लागत 6.49 करोड़ रुपये की लोकार्पित हुई। 

यह भी पढ़ें: भदोही के बाहुबली विधायक विजय मिश्रा ने किया रेप!, बनारस की लड़की ने लगाए आरोप

जंसा में किसानों की आय बढ़ाने में लाभकारी बहुउद्देशीय बीज भंडार एवं प्रौद्योगिकी संदूषण केंद्र परियोजना किसानों को समर्पित की। इससे उस क्षेत्र के किसान एक स्थान से कृषि निवेश एवं जानकारी आदि की सुविधा पा सकेंगे। वाराणसी शहर में फेज-2 के आईपीडीएस के 118.20 करोड़ रुपये के विभिन्न रूटों यथा-कैंट से लहुराबीर, संत अतुलानंद से कचहरी, भोजूबीर से महावीर मंदिर, कचहरी से भोजूबीर तिराहा, बीएचयू से सामनेघाट, बड़ी गैबी क्षेत्र में विद्युत लाइनों को ओवरहेड से भूमिगत करने की परियोजना लोकार्पित हुई। इससे इन क्षेत्रों के 7168 विद्युत उपभोक्ताओं को उच्च गुणवत्ता की विद्युत आपूर्ति मिल सकेगी तथा शहर का सौंदर्यीकरण हुआ व विद्युत दुर्घटना नहीं होगी। 25 नए विद्युत वितरक परिवर्तक लगने से कई वर्षों तक की ओवरलोड की समस्या समाप्त हो गई। खेल जगत को सुदृढ़ीकरण पूर्ण हुई डॉक्टर संपूर्णानंद स्पोर्ट्स स्टेडियम में नव निर्माण व खिलाड़ी सुविधा कार्यों का भी लोकार्पण हुआ।

यह भी पढ़ें: सुहागरात के दिन पति निकला गंजा, गुस्से में पत्नी ने कर दिया यह ऐलान

प्रसिद्ध बौद्ध स्थल सारनाथ में सायंकाल ध्वनि व प्रकाश व्यवस्था से विशेष आकर्षक रूप में सांस्कृतिक कार्यक्रम संचालित हेतु 7.88 करोड़ रुपये की लाइट एंड साउंड प्रोग्राम सारनाथ परियोजना लोकार्पित हुई। नगर के एबीडी क्षेत्र में स्मार्ट प्रकाश व्यवस्था की 23 करोड़ रुपये की परियोजना लोकार्पित हुई। इससे नगर की सड़कों, गलियों में एलईडी लाइट से जगमगाहट हुई। लाइट को सेंटर कमांड कंट्रोल से ऑन-ऑफ करना, जिससे विद्युत बचत व होना तथा खराबी की जानकारी कमांड कंट्रोल सेंटर पर आ जाना आदि नवीन तकनीकी कार्यों का लोकार्पण हुआ। कपसेठी सहकारी समिति में 100 मेट्रिक टन गोदाम लोकार्पित होकर अन्नदाताओ की सेवा में समर्पित हुआ। जनपद में छोटे बच्चों को गुणात्मक एवं सरल शिक्षा के लिए 7.89 करोड़ रुपये से 105 आंगनवाड़ी केंद्र लोकार्पित हुए। विभिन्न पंचायतों में बने गौ संरक्षण हेतु 6.26 करोड़ रुपये से 102 गो आश्रय केंद्रों का भी लोकार्पण किया गया।

यह भी पढ़ें: आंटी कहने पर हो गया पंगा, बीच बाजार बाल पकड़कर क्या किया आंटी ने, पढ़िए ये खबर- 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 394.11 करोड़ रुपये लागत की 14 परियोजनाओं के शिलान्यास में पीएससी भूलनपुर में 20.04 करोड़ रुपये की लागत से एक विशाल 200 व्यक्तियों की क्षमता के बैरक का निर्माण होगा। उद्यमियों को सहूलियत हेतु औद्योगिक क्षेत्र चांदपुर में 10.84 करोड़ रुपये से आंतरिक मार्गों व नालियों का सुदृढ़ीकरण होगा। सेवापुरी विकास खंड के 250 से अधिक आबादी वाले 11ऐसे गांव जो संपर्क मार्ग से अब तक नहीं जुड़े थे, उनमें 2.94 करोड़ रुपये लागत से संपर्क मार्ग बनाये जायेंगे। सांस्कृतिक संकुल परिसर चौकाघाट के बहुउद्देशीय हाल का 6.30 करोड़ रुपये  से ऊंचीकरण परियोजना का शिलान्यास हुआ। शहर के शाही नाले से बहने वाले अतिरिक्त सीवर को गंगा में जाने से रोकने हेतु ओटीएस से आरटीएस में सीवेज डायवर्ट किए जाने की 10.42 करोड़ रुपये की परियोजना का भी शिलान्यास हुआ।

यह भी पढ़ें: स्कोर्पियो से शख्स को हुआ इतना प्यार कि घर की छत पर पंहुचा दी कार, आनंद महिंद्रा बोले- आपको मेरा सलाम

वाराणसी में उन्नत निगरानी प्रणाली परियोजना 128 करोड़ रुपये का शिलान्यास हुआ। इससे शहर के 720 स्थानों पर 3000 एडवांस सर्विलांस कैमरा लगेंगे। इन कैमरों से फेस रिकॉग्निशन, वाहन की नंबर प्लेट रिकॉग्निशन, भीड़ नियंत्रण, पुलिस निरीक्षण एवं अपराध नियंत्रण जैसे कार्य गुणवत्ता से होंगे। सेंटर कमांड कंट्रोल से संचालित होगा। काशी का हृदय दशाश्वमेध घाट पर सुविधायुक्त आकर्षक टूरिस्ट प्लाजा 23.46 करोड़ रुपये से बनेगा। पुरानी काशी के जंगमबाड़ी वार्ड का 12.65 करोड़ रुपये से, दशाश्वमेध घाट का 16.22 करोड़ रुपये से तथा गढ़वासी टोला वार्ड का 8.95 करोड़ रुपये से पुनर्विकास कार्य होगा। इससे गलियों में चौका पत्थर बदलेगा, सीवरेज व पेयजल की नई लाइनें पड़ेंगी आदि कार्य होंगे। खिड़कियां घाट को एक सेल्फ सर्स्टनेबल मॉडल घाट के रूप में विकसित किया जाएगा। प्रदूषण नियंत्रण हेतु गंगा में चलने वाले नावों हेतु सीएनजी स्टेशन, ओपन थिएटर, पार्किंग, फूड कोर्ट, दिव्यांगों हेतु रैंप आदि कार्य होंगे। 

यह भी पढ़ें: ऐसी लगी सुर्ती की तलब की रोक दी ट्रेन, अधिकारियों ने भी पीट लिया माथा 

शहर की यातायात व्यवस्था को सुधार किए जाने के उद्देश्य से वाहनों के पार्किंग व्यवस्था हेतु बेनियाबाग पार्क में 90.42 करोड रुपये से बड़ी पार्किंग परियोजना का शिलान्यास हुआ। इसमें 470 चार पहिया वाहन व 130 दो पहिया वाहन सुव्यवस्थित रूप से खड़ी हो सकेंगे। यह पार्क में दुकाने, योग गार्डन, बच्चों के खेलने हेतु प्रबंध, ओपन थिएटर, बैठने की व्यवस्था आदि सुविधायुक्त होगा। वाराणसी को पर्यटन की दृष्टि से और विकसित करने हेतु 4.90 करोड़ रुपये से 08 स्थलों यथा- नरसिंह मठ का विकास, संकुलधारा मठ, नव दुर्गा मंदिरों के भव्य गेट निर्माण, ओमकालेश्वर मंदिर का पर्यटन विकास, शूलटंकेश्वर का पर्यटन विकास, राजघाट पर स्टेज, चेंजिंग रूम, कालभैरव मंदिर में गेट निर्माण, जैतपुरा ज्वर हरेश्वर महादेव का पर्यटन विकास कार्यों का शिलान्यास हुआ। शहर में केंद्रीय वित्त आयोग एवं अवस्थापना निधि से 18 सड़कों के निर्माण व पटरी सुधार के 14.83 करोड़ रुपये के कार्यों का शिलान्यास हुआ।

यह भी पढ़ें: BREAKING : भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मेरे बड़े पापा, सचिवालय में नौकरी को लगेंगे चार लाख रुपये

प्रधानमंत्री ने काशीवासियों को दीपावली, गोवर्धन पूजा की दी बधाई एवं शुभकामना:

इस दौरान उन्होंने जनपद के सर्किट हाउस सभागार, कमिश्नरी सभागार, पंडित दीनदयाल उपाध्याय हस्तकला संकुल सभागार, श्री लाल बहादुर शास्त्री अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा सभागार, दशाश्वमेध घाट तथा शूलटंकेश्वर महादेव मंदिर सहित विभिन्न स्थलों पर लगाए गए बड़ी बड़ी स्क्रीन पर कार्यक्रम को देखने के लिए एकत्रित जन समुदाय से हर हर महादेव का नारा लगाया। इस दौरान उन्होंने कोरोना महामारी के पश्चात बनारस के बाजारों में और रौनक बढ़े और बनारस की साड़ी व्यापार और चमके की भी कामना की। जंसा में किसान सेवा केंद्र एवं किसानों के खाद्यान्न रखने के लिए कपसेठी में 100 मेट्रिक टन क्षमता के बनाए गए गोदाम का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि किसान का श्रम केवल उसके लिए नहीं बल्कि पूरे देश के काम आता है। महादेव की आशीर्वाद से काशी कभी थकती नहीं हैं। जो गंगा की तरह निरंतर आगे बढ़ती रहती है। कोरोना कॉल में जिस जीविटता से काशी ने लड़ाई लड़ी है और जिस सामाजिकता का परिचय दिया, वह प्रशंसनीय है।

यह भी पढ़ें: डीडीयू जंक्शन बना तस्करी का हब, राजधानी के एसी क्लास में सफ़र करते हैं तस्कर

प्रधानमंत्री ने काशी व उत्तर प्रदेश में बिना रुके व बिना थके हो रहे विकास एवं निर्माण कार्यों के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उनके मंत्रिमंडल के सदस्यों सहित सरकारी मुलाजिमों को श्रेय दिया। उन्होंने कहा कि बनारस के शहर एवं देहात में पर्यटन, संस्कृति, सड़क, बिजली आदि संपूर्ण क्षेत्रों में एतिहासिक विकास कार्य हुआ है और हो भी रहा है। हमेशा प्रयास रहता है कि बनारस के लोगों के भावना के अनुरूप विकास का पहिया चलता एवं बढ़ता रहे। गंगा सफाई, शहर की आंतरिक एवं बाहरी सड़कों का निर्माण कार्य, यातायात व्यवस्था, सीवरेज, पेयजल, पुल आदि हर क्षेत्र में बनारस ने नई गति प्राप्त की हुई हैं। पर्यटकों की संख्या बढ़ेगी तो वे अच्छा महसूस करके अच्छा अनुभव प्राप्त कर यहां से जाएंगे। सारनाथ में लाइट एंड साउंड से भव्यता और बढ़ेगी। काशी के झूलते-लटकते विद्युत तार यहां की बड़ी समस्या रही। इससे अब काशीवासियों को निजात मिल रही है। काशी में सड़क जाम न हो, लोगों को सुगम यातायात की सुविधा मिल सके इसके लिए नया इंफ्रास्ट्रक्चर बढ़ रहा है। एयरपोर्ट मार्ग तथा वहां पर नवनिर्मित बने दो पैसेंजर बोर्डिंग ब्रिज नई पहचान बनेंगे और इससे पर्यटकों को सुविधा बढ़ेगी।

यह भी पढ़ें: जानें कैसे समोसा छानने वाली कड़ाही बनी वरदान, बच गई मिठाई विक्रेता की जान

वाराणसी में सड़क निर्माण के कई बड़ी परियोजनाओं पर कार्य शुरू हो गए हैं। वाराणसी रोडवेज के इस नेटवर्क के साथ वाटर कनेक्टिविटी में भी मॉडल बन रहा है। यहां पर देश का पहला इनलैंड वाटर-वे बन चुका है। काशी उत्तर प्रदेश ही नहीं पूरे पूर्वांचल के लिए चिकित्सा सुविधा का हब बन चुका है। वाराणसी में चौतरफा विकास हो रहा है। इससे पूर्वांचल ही नहीं पूरे पूर्वी भारत के लोगों को लाभ मिल रहा है। वाराणसी से फल, सब्जी एवं धान पहली बार विदेशों को गया है। गांव, गरीब, किसान आत्मनिर्भर के सबसे बड़े स्तंभ व लाभार्थी भी हैं। बिचौलियों व दलालों को सिस्टम से बाहर किया जा रहा है। इसका लाभ किसान सहित सभी को मिलेगा। रेहड़ी-पटरी वालों को प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना से सबसे सरल तरीके से लोन मिल रहा है। कोरोना काल में आयी समस्या से उबरने के लिए उन्हें 10 हजार रुपये का सहयोग मिल रहा है। गांवों में भूमि विवाद समाप्त करने के लिए स्वामित्व योजना से प्रॉपर्टी कार्ड को दिया रहा है। इससे गांव में भूमि की समस्या समाप्त हो जाएगी। 

यह भी पढ़ें: बुजुर्ग पेंशनरों के लिए जीवन प्रमाण पत्र, घर जाकर बनाएंगे डाकिये

उन्होंने लोकल के लिए वोकल, वोकल फॉर लोकल फॉर दीपावली की गूंज चारों तरफ सुनाई देने लगी है। उन्होंने विशेष रूप से काशीवासियों का आह्वान करते हुए कहा कि काशी के लोग लोकल और दीपावली की चर्चा करें। इसे एक दूसरे तक पहुंचाएं कि हमारी लोकल सामग्री कितने अच्छे हैं और गुणवत्तायुक्त हैं। इससे सामग्री बनाने वालों की भी दीपावली अच्छे से मनेगी। लोकल के लिए बोकल बने। दीपावली मनाए लोकल के साथ, इससे अर्थ चेतना में नई पहचान आ जाएगी। उन्होंने विशेष रूप से जिक्र करते हुए कहा कि हर चीज लोकल ले। देश के लोग पसीना बहा रहे हैं। उनके बनाए चीज को जब हम लेते हैं तो उनका उत्साह बढ़ जाता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि काशी से जो भी हमने मांगा और जब मांगा, काशीवासियों ने दिल खोलकर दिया, सहयोग किया।

यह भी पढ़ें: ...थोड़े दिन मेरे बेटे को पाल लो उसके बाद ले लूंगा वापस

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ से वर्चुअली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत करते हुए दीपावली से पूर्व काशीवासियों को मिले इस सौगात के लिए बधाई एवं शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि काशी की पुरातन काया को वैश्विक मंच पर स्थापित करने के लिए प्रधानमंत्री के नेतृत्व में अलग-अलग क्षेत्रों में जो विकास कार्य संचालित हुई वह काशी को वैश्विक मंच पर नई पहचान दिलाई है। कोरोना वैश्विक महामारी में काशी व प्रदेश के लोगों को प्रधानमंत्री ने जो संदेश दिया वह सबल प्रदान किया और अपनापन का एहसास कराया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वाराणसी कार्यकाल के दौरान अब तक वाराणसी में 18000 करोड़ से अधिक धनराशि की परियोजनाएं पूर्ण हो चुकी हैं तथा 9000 से अधिक धनराशि की परियोजनाएं गतिमान एवं संचालित हैं। उन्होंने विशेष रूप से देते हुए कहा कि निश्चित रूप से इन परियोजनाओं को पूर्ण होने पर काशी की अलग पहचान वैश्विक मंच पर स्थापित होगा। कार्यक्रम का संचालन मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी उत्तर प्रदेश ने किया।
 



footer
Top