logo
add image

लाइन हाज़िर चल रहे थानेदार हुए सस्पेंड

लाइन हाज़िर चल रहे थानेदार हुए सस्पेंड

वाराणसी: काशी लाइव 

पत्नी व बच्चों के गायब होने के बावजूद गुमशुदगी दर्ज ना करते हुए पीड़ित का मजाक उड़ाने के मामले में एसएसपी अमित पाठक ने सख्त कार्रवाई की है। लाइन हाजिर चल रहे लालपुर-पांडेयपुर के पूर्व थानाध्यक्ष दरोगा धनंजय पांडेय को निलंबित कर दिया है। साथ ही अन्य पुलिसकर्मियों को पीड़ितों की फरियाद ध्यान से सुनने और उस पर कार्रवाई करने का भी निर्देश दिया है।

 

यह भी पढ़ें: पुलिस की लापरवाही, देहव्यापार के दलदल में फंस गई महिला

खाकी को बदनाम करने वाले पूर्व थानाध्यक्ष की कारस्तानी को काशी लाइव ने उजागर किया था। इसके बाद पूरे मामले का संज्ञान एडीजी जोन बृजभूषण शर्मा ने लिया और एसपी सिटी समेत तीन सदस्यीय टीम जांच के लिए बैठा दी गई। जांच में दरोगा की लापरवाही सामने आई। यहीं नहीं सीओ कैंट मोहम्मद मुश्ताक के नेतृत्व में जब टीम ने जांच की तो देह व्यापार का भी मामला सामने आया। पता चला कि बिहार निवासी रंजीत की पत्नी गायब नहीं हुई थी बल्कि उसे काम दिलाने के नाम पर 50 हजार में बेचा गया था। खरीदने वाले ने उसके मांग में जबरन सिंदुर भर दिया था। जब महिला बनारस आने को कहने लगी तो उसे 50 हजार में खरीदने की बात बताई और उससे देह व्यापार कराने लगा। पूरे मामले में दो महिलाओं समेत कई लोगों के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज हो गया है। पुलिस ने कुछ लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं अन्य की तलाश कर रही है।

यह भी पढ़ें: बनारस पुलिस की संवेदनहीनता ने ले ली एक युवक की जान

हत्या के मामले को दबा दिया था

पूर्व थानाध्यक्ष ने केवल यही नहीं किया बल्कि एक महिला की हत्या के मामले को भी दबा दिया। उसमें केस तक दर्ज नहीं किया गया। जबकि लालपुर चौकी इंचार्ज ने केस दर्ज कराने के लिए पत्र भी लिखा था। इस मामले को भी काशी लाइव ने उजागर किया था।

 



footer
Top