logo
add image

पुरानी रंजिश के कारण दोस्तों ने ही उतारा था मुंशी को मौत के घाट, असलहों का होता था कारोबार 

पुरानी रंजिश के कारण दोस्तों ने ही उतारा था मुंशी को मौत के घाट, असलहों का होता था कारोबार 

12 Jan 2021
चंदौली । काशीलाइव (Kashilive.com)

मुंशी सोनकर हत्याकांड का जनपद पुलिस ने सोमवार को खुलासा किया। सटिक मुखबिरी के आधार पर बलुआ पुलिस ने रविवार की मध्य रात हत्यारोपी बुलेट सवार विकास यादव को बलुआ पक्का पुल से धर-दबोचा। पुलिस पूछताछ में युवक ने अपने साथियों के साथ मुंशी सोनकर की हत्या करने की बात स्वीकार की। साथ ही उसकी निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त खून से सना ईंट का टुकड़ा, ब्रेजा कार की चाभियां, मृतक की सिकड़ी व रुद्राक्ष की माला पुलिस ने बरामद कर ली है। पुलिस के मुताबिक हत्या को अंजाम देने वाले तीन अन्य आरोपी फरार चल रहे हैं, जिनकी धर-पकड़ तेज कर दी गयी है। 

यह भी पढ़ें: मुख्तार के करीबी अजीत का हत्यारा एक लक्खा इनामी डॉक्टर दिल्ली से गिरफ्तार

इस दौरान एएसपी प्रेमचंद ने बताया कि आरोपी विकास यादव मृतक मुंशी सोनकर से अवैध असलहे खरीदकर बेचा करता था। विकास पर असलहों की खरीद का कुछ पैसा बकाया चल रहा था, जिसे लेकर मुंशी ने कई बार विकास को मारा-पीटा, साथ ही उसे बेइज्जत करता रहता था। इस बात से विकास काफी खिन्न व खुन्नस खाए हुए था। बीते छह जनवरी को विकास के साथी मुलायम यादव, रोहित यादव व भिक्खू यादव वाराणसी जनपद के भगतुआ स्थित मुर्गी फार्म पर बैठकर शराब पी रहे थे। उसी दौरान विकास के कहने पर मुंशी सोनकर की हत्या की सभी ने मिलकर साजिश की। 

यह भी पढ़ें: भाभी पर आया दोस्त का दिल तो उतार दिया मौत के घाट, पुलिस ने किया दो को गिरफ्तार

इसके बाद मुलायम के मोबाइल से मुंशी को फोन करके तमंचा खरीदने की बातचीत की और सात जनवरी को विकास व रोहित अपाची से मुंशी सोनकर के घर गए, जहां उसने मोबाइल में एक पिस्टल की फोटो दिखाई और 25 हजार में खरीद का सौदा तय हुआ। इसके बाद सभी मुंशी के ब्रेजा कार से बलुआ स्थित एटीएम केंद्र से 10 हजार रुपये निकाले और वहां से बलुआ गंगा पुल पार करके भगतुआ पहुंचे और शराब खरीदी। मुंशी सोनकर समेत सभी हत्यारोपी, विकास के मुर्गी फार्म पर पहुंचे, जहां शराब पीने के बाद मुंशी की लात-मुक्के से पिटाई की और उसका हाथ व मुंह बांधकर कमरे में कैद कर दिया। 

यह भी पढ़ें: गंगा में साइबेरियन पक्षी को दाना खिलाने पर जिलाधिकारी ने लगाई रोक, प्रवासी पक्षी बने दुश्मन, जानिए वजह

रात होने के बाद मुंशी को ब्रेजा कार से लेकर पलिया गांव के मैदान पर पहुंचे। वहां मुंशी को ईंट के टुकड़े से सिर पर वार किया और गला दबाकर मारना चाहा। इसके बाद मुलायम ने कार से कई बार मुंशी को रौंदा और मुंशी की मौत की पुष्टि होने के बाद उसका पर्स, सिकड़ी व अन्य सामान लेकर आरोपी मौके से फरार हो गए। एएसपी ने बताया कि विकास की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त बुलेट, खून से सना ईंट व अन्य सामान बरामद कर लिया है।
 



footer
Top