logo
add image

मुख्तार के करीबी अजीत सिंह की सरेराह गोली मारकर हत्या, आज़मगढ़ के बाहुबली पर शक की सुई

मुख्तार के करीबी अजीत सिंह की सरेराह गोली मारकर हत्या, आज़मगढ़ के बाहुबली पर शक की सुई

07 Jan 2020

लखनऊ। काशीलाइव

विभूतिखण्ड थाना क्षेत्र के पाश इलाके कठौता चौराहे पर सनसनीखेज वारदात को अंजाम दिया गया। मऊ जनपद की ब्लाक प्रमुख के पति अजीत सिंह की सरेराह गोली मारकर हत्या कर दी गयी है। वहीं एक के घायल होने की सूचना भी आई है। जानकारी के मुताबिक गैंगवार के चलते ताबड़तोड़ फायरिंग की गई है।

पुलिस के मुताबिक देर शाम करीब 9 बजे कठौता चौराहे से 50 मीटर की दूरी पर फायरिंग की सूचना मिली। मौके पर पहुची पुलिस ने घटना ने अजीत सिंह और उसके साथी मोहर सिंह को लोहिया अस्पताल पहुंचाया। जहां डॉक्टरों ने अजीत सिंह को मृत घोषित कर दिया। सूत्रों के मुताबिक अजीत सिंह मऊ जिले के मुख्तार अंसारी का बहुत क़रीबी था। दर्जनों अपराधिक मामलो मे अजीत सिंह लिप्त था। आज़मगढ़ के एक बाहुबली पर हत्या कराने का शक। 

लखनऊ में हुए गैंगवार में मारा गया मऊ के मुहम्मदाबाद गोहना का प्रमुख प्रतिनिधि अजीत सिंह पिछले हफ्ते ही जिला बदर हुआ था। उसे जिला प्रशासन ने 31 दिसंबर को ही जिला बदर किया था। इसके बाद से ही वह जिला छोड़कर लखनऊ में रहने लगा था। उसके ऊपर हत्या समेत 19 से अधिक संगीन आपराधिक मुकदमे चल रहे थे।

वारदात के बाद पैदल भागे बदमाशों की तलाश में पांच टीम लगाई गई:

वारदात के बाद लखनऊ, मऊ, आजमगढ़ समेत पूर्वांचल के विभिन्न जिलों में तलाश जारी, वहीं पुलिस कनेक्शन खंगाल रही है। घटनास्थल के आसपास के पुलिस सीसीटीवी खंगाल रही है।चश्मदीद ने सुनाया आंखों देखा हाल। हत्याकांड के बाद पैदल ही फरार हुए हत्यारे।

स्कॉर्पियो से उतरे, कुछ कदम बढ़े कि बरसने लगी गोलियां:

विभूति खंड थाना क्षेत्र में बेखौफ बदमाशों ने बुधवार रात गैंगवार में मऊ में एक ब्लॉक प्रमुख के प्रतिनिधि अजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी। ताबड़तोड़ फायरिंग से इलाका दहल उठा लोग भागने लगे। बताते हैं कि अजीत अपनी बुलेट प्रूफ स्कॉर्पियो से अपने साथी मोहर सिंह के साथ विभूति खण्ड पहुंचा। गाड़ी से उतरकर दोनों कुछ देर पैदल आगे चले कि अचानक फायरिंग होने लगी।

अजीत ने भी क्रॉस फायरिंग की। दोनों तरफ से गोलियां चलते ही बाजार में भगदड़ मच गई। क्रॉस फायरिंग में एक गोली अजीत के सिर में लगी और ऑन द स्पॉट उसकी मौत हो गई। उसके साथी मोहर सिंह के साथ एक अन्य के भी पैर में गोली लगी। वारदात को अंजाम देने के बाद बदमाश पैदल भाग निकले। पुलिस सीसीटीवी फुटेज की मदद से आसपास के इलाके में नाकाबंदी कर बदमाशों की तलाश में जुटी है।
 
पूर्वांचल से जुड़ रहे तार:

अजीत सिंह हत्याकांड के तार पूर्वांचल से जुड़ रहे। पुलिस की शक की सुई जेल में बंद आजमगढ़ के एक माफिया पर टिकी है। बता दें कि विधायक सर्वेश सिंह उर्फ सिम्पू सिंह की हत्या के मामले में अजीत सिंह गवाह थे। 19 जुलाई 2013 को विधायक सिम्पू सिंह की आजमगढ़ में हत्या कर दी गई थी।

सूत्रों के मुताबिक अजीत सिंह आजमगढ़ के विधायक सर्वेश सिंह उर्फ सीपू सिंह की 2013 में हुई हत्या के चश्मदीद गवाह था। उसके खिलाफ पांच हत्या समेत कई गंभीर धारा के 17 केस दर्ज हैं। दिसम्बर को उसे मऊ से जिलाबदर किया गया था। तबसे यहां गोमतीनगर विस्तार के एक अपार्टमेंट में रह रहा था।



footer
Top