logo
add image

मंत्री और 5 बार के विधयाक रहे अजय राय का लाइसेंस हुआ कैंसिल तो आक्रोशित हुए कांग्रेसी

मंत्री और 5 बार के विधयाक रहे अजय राय का लाइसेंस हुआ कैंसिल तो आक्रोशित हुए कांग्रेसी

07 Jan 2021
वाराणसी। काशीलाइव

लोकप्रिय जननेता पूर्व मंत्री व पांच बार के विधायक अजय राय के शस्त्र लाइसेंस रद्द किए जाने से सन्दर्भ में आक्रोशित कांग्रेसजनों ने गुरुवार पुलिस महानिदेशक वाराणसी जोन को पत्रक सौंपा।

लोकप्रिय जनप्रतिनिधि पूर्व मंत्री व पूर्व विधायक अजय राय जो 1996 से लेकर लगातार 2017 तक विधायक रहे। प्रदेश सरकार में मंत्री रहे और कांग्रेस पार्टी के यूपी में शीर्ष नेताओं में से एक है।सन 1991 में पुलिस द्वारा चिन्हित माफिया मुख्तार अंसारी द्वारा इनके बड़े भाई स्व.अवधेश राय जी की हत्या की गई जिसमें यह मुक़दमावादी है और वर्तमान समय मे जो माहौल है वह भयभीत करने वाला है। पूरा उत्तर प्रदेश जंगलराज में तब्दील हो गया है। 

अजय राय लगातार जनविरोधी सरकार के खिलाफ लड़ाई लड़ते है, जनहित में संघर्ष करते है। ऐसे में इनके सुरक्षा की जिम्मेदारी राज्य है जिला प्रशासन की है।लेकिन व्यक्तिगत द्वेष और सरकार की दबाव में जिला प्रशासन द्वारा अजय राय की सुरक्षा से खिलवाड़ करते हुए उनके शस्त्र लाइसेंस को निरस्त किया गया व उनको प्रताड़ित किया जा रहा है।

महानगर अध्यक्ष राघवेंद्र चौबे ने कहा कि सन 2014 यह वह साल का नाम है, जब देश की सत्ता पर तानाशाह काबिज हुए और आज लगातार 7 साल बीत गया पूरे देश मे खरीद-फरोख्त हुआ और आज भी जारी है। किसी ने जमीर बेचा, तो किसी ने सौदा किया, तो कोई डर के मारे भाजपा ज्वाइन किया।और अपराधियों के लिए तो भाजपा अवसर और अपने पाप धोने के रूप में था और आज भी है।

अजय राय वह शख्सियत का नाम है जिन्होंने भाजपा की कोई कवायद नही मानी, झुके नही, बिके नही और अपने पथ से डिगे नही और लगातार इस जनविरोधी सत्ता का खुलकर विरोध किया और जनता की लड़ाई लड़ी, संघर्ष किया। परिणाम स्वरूप रासुका और जेल यात्रा भी किये लेकिन फिर भी अजय राय पीछे नही हटे। आज बौखलाई भाजपा ने साजिश के तहत पांच बार के विधायक, प्रदेश सरकार ने मंत्री रहे व यूपी कांग्रेस के शीर्ष नेताओं में से एक अजय राय की सुरक्षा से खिलवाड़ करते हुए उनके 4 शस्त्रों के लाइसेंस को निरस्त कर दिया।

पूरे पूर्वांचल सहित उत्तर प्रदेश में सैकड़ो विधायक, मंत्री, सांसद जो अपराधी हैं लेकिन भाजपाई है, इसलिए उनका लाइसेंस कैंसिल नही हुआ। लेकिन अजय राय का 4 शस्त्र लाइसेंस कैंसिल करके योगी सरकार ने अपने नकारेपन व निक्कमेपन का परिचय दिया है। हम शासन - प्रशासन को आगाह करते हैं कि अजय राय के सुरक्षा व्यवस्था से खिलवाड़ बर्दाश्त नही होगा। अगर अजय राय पर भविष्य में कोई भी जान-माल की हानि होती है तो उसका सीधे जिम्मेदार उत्तर प्रदेश सरकार व जिला प्रशासन वाराणसी होगा। हम कांग्रेस जन चुप नही बैठेंगे। इस जनविरोधी सरकार से खुलकर लड़ेंगे। 

साथ ही हम कांग्रेसजन लोकप्रिय जननेता अजय राय को उचित सुरक्षा व्यवस्था दिया हम सब इसकी मांग करते है और जिस मुकदमे का दलील जिलाधिकारी दे रहें हैं तो हम कांग्रेसजन उनको बताना चाहते हैं कि वर्तमान सारे मुकदमे अजय राय के ऊपर राजनैतिक मुकदमे है।

इस अवसर पर जिला अध्यक्ष राजेश्वर पटेल, महानगर अध्यक्ष राघवेन्द्र चौबे, प्रदेश सचिव इमरान खान, विश्वनाथ कुँवर, मयंक चौबे, फसाहत हुसैन बाबू, मनीष चौबे, कब्बन भाई, आसिष सिंह, तरंग सेठ, आशीष गुप्ता, लालजी यादव, दिलीप सोनकर, रोहित दुबे, किशन यादव, प्रिंस चौबे, अश्विनी यादव, आयुष सिंह समेत कई नेता व कार्यकर्ता उपस्थित रहे।।



footer
Top