logo
add image

साइबर ठगों के निशाने पर पुलिस अधिकारी, ऐसे बना रहे निशाना

साइबर ठगों के निशाने पर पुलिस अधिकारी, ऐसे बना रहे निशाना

वाराणसी। काशीलाइव (kashilive.com)

हाईटेक पुलिसिंग का दावा करने वाली यूपी पुलिस साइबर ठगों के नतमस्तक हुए जा रही हैं। वो एक बाद एक लोगों को ठगते जा रहे हैं और पुलिस चाहकर भी कुछ नहीं कर पा रही है। अब तो साइबर ठगों के निशाने पर खुद पुलिस के बड़े अधिकारी ही आ गए हैं। वह पुलिस अधिकारियों की फेंक आईडी बनाकर उनके ही परिचितों से पैसे वसूल ले रहे हैं। 

ताजा मामला आजमगढ़ के डीआईजी सुभाष चंद्र दुबे से जुड़ा है। साइबर ठगों ने फेसबुक पर इनकी फेक आईडी बनाई है। बकायदा उसमें सुभाष चंद्र दुबे का फोटो लगा है। इस आईडी से वह लोगों को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजकर पहले बातचीत कर रहे हैं। फिर उनसे किसी ना किसी बहाने पैसे मांग रहे हैं। कुछ लोग तो ये समझ जा रहे हैं लेकिन कुछ झांसे में आकर उन्हें पैसे दे दे रहे हैं। सुभाष चंद्र दुबे ने फेसबुक पर पोस्ट डालकर फेक आईडी बनाए जाने की बात कही है। साथ ही किन्ही भी परिस्थिति में पैसे नहीं भेजने को कहा है। उन्होंने साइबर सेल को जांच करने को कहा है। 

इससे पहले बदायूं के डीआईजी राजेश पांडेय की सितंबर महीने में ही फर्जी आईडी बनाई गई। इसके बाद राजेश पांडेय के फेसबुक दोस्तों को रिक्वेस्ट भेजकर दोस्त बनाया गया। उसके बाद फिर पैसे मांगने का खेल शुरू हो रहा है। इतने दिन होने के बावजूद पुलिस उन्हें पकड़ नहीं सकी है।

रहें सावधान, ना भेजे पैसे

यदि कोई व्यक्ति जो आपका फेसबुक फ्रेंड है और वह चैटिंग करके कोई समस्या बता रहा है। फिर पैसे मांग रहा है तो उसे तत्काल पैसे ना भेज दें। पहले अपने दोस्त को फोन कर लें। फोन पर पूरी बातचीत कर लें और संतुष्ट होने पर ही मदद करें। क्योंकि ठग हमेशा आपसे ऑनलाइन, गूगल पे, पेटीएम या अन्य माध्यमों से पैसा मंगाएंगे।



footer
Top