logo
add image

श्रीराम का टैटू बनवाने वाली मुस्लिम भाजपा नेता पर टूटा कहर, पढ़िए कैसे दबंगों ने पुलिस के बल पर की सरेराह मारपीट 

श्रीराम का टैटू बनवाने वाली मुस्लिम भाजपा नेता पर टूटा कहर, पढ़िए कैसे दबंगों ने पुलिस के बल पर की सरेराह मारपीट 

वाराणसी। काशी लाइव

गंगा-जमुनी की तहजीब वाले शहर बनारस के गंगापार चंदौली में एक भाजपा की मुस्लिम पदाधिकारी ने राम जन्मभूमि मंदिर पूजन से पहले अपने हाथ पर श्रीराम का टैटू बनवाकर सबको चैंका दिया था। चंदौली की राजनीति में उसका नाम तेजी से उभरा तो इलाकाई नेताओं को ये रास नहीं आया। शुक्रवार की रात मुस्लिम युवती के साथ उस समय मारपीट की जब वह साथियों के साथ लतीफशाह से घर लौट रही थी। श्रीराम और महादेव को पूजने वाली मुस्लिम युवती ने इसकी जानकारी ट्विटर पर देते हुए आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।
चंदौली भाजपा के आइटी विभाग की पूर्व जिला सह संयोजक व अल्पसंख्यक मोर्चा काशी क्षेत्र की क्षेत्रीय उपाध्यक्ष इकरा अनवर चंदौली के पीडीयू नगर हनुमानपुर की रहने वाली हैं। महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ से विधि की पढ़ाई कर रही इकरा अनवर बीते दिनों अपनी बांह पर श्रीराम का टैटू बनवाकर चर्चा में आई थीं। उनकी यहीं चर्चा उनके विरोधियों को खल गई।


इकरा ने काशी लाइव से बातचीत में बताया कि इधर कुछ दिनों से इलाके में राजनीति करने वाले कुछ दबंगों की आंख की वह किरकिरी बन गई थी क्योंकि लाॅकडाउन में उसने अपने साथियों के साथ मिलकर जरूरतमंदों की मदद की। विरोधियों को ये खल रहा था। शुक्रवाार को लतीफशाह से लौटने के बाद वह अपने साथियों के साथ घर जा रही थी कि रास्ते में पराहूपुर के अरविंद मिश्र व उसके साथियों ने घेर लिया। शराब के नशे में धुत लोगों ने उसे राजनीति के खेल से दूर रहने की धमकी देते हुए असलहा निकाल लिया। इकरा के मि़़त्रों ने विरोध जताया तो थानेदार के साथ गलबहियां की धमकी देते हुए असलहा निकाल लिया और मारपीट करने लगे। किसी तरह वह और उसके साथी जान बचाकर भागे। इकरा ने मामले की जानकारी चंदौली पुलिस को देने के साथ ही भाजपा संगठन को दे दी है। इकरा ने बताया कि पुलिस की मिलीभगत से अरविंद व उसके साथियों ने पूरे इलाके में दहशत फैला रखी है। पुलिस लोगों की सुरक्षा के लिए है या फिर दबंगों का मित्र बनकर जुल्म ढाने के लिए, समझ नहीं आ रहा।

युवती से नहीं हुई थी मारपीट-
पीडीयूनगी मुगलसराय कोतवाली प्रभारी शिवानंद मिश्र ने बताया कि युवती का आरोप बेबुनियाद है। वह धार्मिक भावनाओं को भड़काकर अपनी रोटी सेंक रही हैं। युवती ने गलत आरोप लगाया है। मारपीट की वजह दूसरी थी। युवती का कथित मित्र शैलेंद्र सिंह सड़क पर जन्मदिवस मना रहा था। क्षेत्रीय लोगों ने विरोध जताया तो शराब के नशे में धुत शैलेंद्र ने मारपीट की। सूचना पर डायल 112 की पुलिस पहुंची थी और आरोपितों को पकड़ लिया था। शैलेंद्र के खिलाफ वाराणसी और चंदौली के थानों में आपराधिक मुकदमे दर्ज हैैं। बीते दिनों वाराणसी में संजय पर चली गोली के मामले में भी पुलिस ने शैलेंद्र के घर दबिश दी थी लेकिन वह फरार हो गया था।



footer
Top