logo
add image

यूपी पुलिस के सामने सरेंडर करने से खौफ खाते हैं माफिया, सरेंडर और शूट के सियासी संरक्षण की दिलचस्प है कहानी

यूपी पुलिस के सामने सरेंडर करने से खौफ खाते हैं माफिया, सरेंडर और शूट के सियासी संरक्षण की दिलचस्प है कहानी

विकास बागी। काशीलाइव 

मध्यप्रदेश हो या उत्तर प्रदेश, दोनों ही जगह भाजपा की सरकार है। योगी सरकार कानून-व्यवस्था चुस्त रखने के लिए अपराधियों पर नकेल कस रही तो वे पुलिस के डर से मध्यप्रदेश में शरण ले रहे। यह पहली बार नहीं है। अस्सी के दशक से ही यूपी के अपराधियों को एमपी उनकी जान की सलामती की वचन देते हुए शरण देता रहा है। भदोही के बाहुबली विधायक विजय सिंह पहले ही आशंका जता चुके थे कि यूपी पुलिस उनका एनकाउंटर करने की तैयारी में हैं।

यह भी पढ़ें:  बाहुबली विधायक की एमएलसी पत्नी लापता

एमएलसी पत्नी के लापता होने के बीच विजय मिश्र भी अचानक भदोही से गायब हो गए और अचानक शुक्रवार सुबह विधायक के मध्य प्रदेश से गिरफ्तार होने की सूचना आती है। विजय मिश्र से पहले आठ पुलिसकर्मियों के हत्यारे कानपुर वाले विकास दुबे ने एमपी में सरेंडर किया था। विजय मिश्रा की बेटी ने भी आशंका जताई है कि उत्तर प्रदेश पुलिस की हिरासत में आने के बाद उनके पिता का भी हाल विकास दूबे जैसा न हो जाए। यूपी पुलिस के सामने बाहुबली सरेंडर करने से घबराते हैं क्योंकि एनकाउंटर का रहता है खौफ सत्ता, पुलिस और अपराधियों के सियासी सरंक्षण को लेकर राज्यों के बीच शह-मात का खेल काफी पुराना है। पढ़िए ये खास रिपोर्ट... 

यह भी पढ़ें:  एमपी से गिरफ्तार हुआ यूपी का बाहुबली एमएलए

फूलन देवी से शुरू हुई थी यूपी-एमपी के बाहुबली गठबंधन की कथा-
सत्तर-अस्सी के दशक में यूपी के बीहड़ों में फूलन देवी का आतंक था। बेहमई कांड के बाद उत्तर प्रदेश प्रदेश की पुलिस फूलन देवी की जान की प्यासी हो गई थी। उस समय मध्यप्रदेश में अर्जुन सिंह की सरकार थी। फूलन देवी उत्तर प्रदेश-मध्यप्रदेश के जंगलों के रास्ते अर्जुन सिंह की शरण में पहुंची। अर्जुन सिंह की सरपरस्ती में फूलन देवी ने सरेंडर करने के साथ ही मुलायम सिंह यादव के आशीर्वाद से सत्ता के गलियारे पहुंची। संसद का सफर तय करने वाली फूलन देवी की दिल्ली की सड़क पर हत्या कर दी गई। 

यह भी पढ़ें: जब हनुमान ने काटी चोटी और माफिया मुख्तार बोला जय श्रीराम

बाहुबली डीपी के बेटे विकास ने ग्वालियर में किया था सरेंडर-

चर्चित नीतीश कटारा हत्याकांड के आरोपी विकास यादव ने भी मध्यप्रदेश में ही अपनी जान बचाई थी। बाहुबली डीपी यादव के बेटे विकास यादव की ग्वालियर से हुई गिरपतारी के बाद उस समय भाजपा ने एमपी के मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को इस मामले में घेरा था।

यह भी पढ़ें: काशी से है बैंडिट क्वीन फूलन के हत्यारे का खास कनेक्शन

महाकाल के परिसर में बोला, मै विकास दुबे कानपुर वाला-

आठ पुलिसकर्मियों की नृशंस हत्या के बाद कानपुर से फरार विकास दुबे ने भी मध्यप्रदेश में ही शरण ली थी। महाकाल के मंदिर में उसने खुद को सुनियोजित तरीके से गिरफ्तारी करवाया लेकिन उसकी किस्मत खराब थी। गिरफ्तारी के बाद यूपी की सीमा में आने के बाद उसने फरार होने की कोशिश की और मारा गया।

उड़ीसा से बृजेश तो मुंबई से गिरफ्तार हुआ बजरंगी
जेजे हत्याकांड में नाम आने के बाद डाॅन का तमगा पाने वाले वर्तमान में एमएलसी बृजेश सिंह उड़ीसा के भुवनेश्वर एयरपोर्ट से 2008 में गिरफ्तार हुए। भाजपा के विधायक बाहुबली कृष्णानंद राय हत्याकांड के आरोपित पूर्वांचल के माफिया डान मुन्ना बजरंगी की गिरपतारी 2009 में मुंबई के मलाड से हुई थी। माफिया से माननीय बने मुख्तार अंसारी गैंग से जुड़े मुन्ना बजरंगी को भी यूपी में ही मौत मिली। बजरंगी की बागपत जेल में हत्या कर दी गई। ढाई लाख इनामी बलिया के कौशल चैबे की देहरादून से गिरफ्तारी हुई थी।

यह भी पढ़ें: पुलिस की पिस्टल लेकर हत्या करने निकला था कृष्णानंद राय हत्याकांड का आरोपी हनुमान

सिंगापुर एयरपोर्ट से गिरपतार हुआ था बबलू, पुर्तगाल से सलेम-
यूपी में अपराध करने वाले दाउद गैंग से अपराधियों ने भी कभी यूपी पुलिस के सामने सरेंडर करने की हिमाकत नहीं की। गाजीपुर के रहने वाले माफिया डान बबलू श्रीवास्तव ने सियासी संरक्षण के बीच खुद को सिंगापुर एयरपोर्ट से पकड़वाया। कैसेट किंग गुलशन कुमार की हत्याकर बालीवुड को अंडरवल्र्ड की शरण में लाने वाला अबू सलेम भी पुर्तगाल से गिरफतार हुआ।
 

 



footer
Top