logo
add image

चैरीटेबुल हास्पिटल करें अपनी सेवाओं को और सुदृढ़ ताकि हो सके गरीबों का बेहतर इलाज: डीएम

चैरीटेबुल हास्पिटल करें अपनी सेवाओं को और सुदृढ़ ताकि हो सके गरीबों का बेहतर इलाज: डीएम

वाराणसी। काशीलाइव

जिलाधिकारी कौशलराज शर्मा की अध्यक्षता में एक सप्ताह पूर्व हुए चैरीटेबुल हास्पिटल के एक बैठक में उनके संचालकों/प्रतिनिधियों द्वारा निर्णय लिया गया था कि तत्काल उनके हास्पिटल के माध्यम से ओपीडी के साथ ही साथ आकस्मिक सेवायें सर्जरी, इत्यादि प्रारम्भ कर दिया जायेगा।

बीते एक सप्ताह के अन्दर चैरीटेबुल हास्पिटलों द्वारा मेडिसीन, ईएनटी, गाइनकोलॉजी, आर्थोपेडिक, पीडियाट्रिक, सर्जरी इत्यादि विभागों के सम्बन्धित रोगियों को उपचारित किया गया। जिलाधिकारी ने कहा कि कोविड महामारी और आपदा में सुविधाजनक कोविड के साथ ही साथ सामान्य रोगियों के उपचार की भी नितान्त आवश्यकता है और इसमें चैरिटेबुल हास्पिटलों की भूमिका प्रमुख है। उन्होने कहा कि ऐसे गरीब मरीज जो महंगे प्राईवेट हास्पिटल में ईलाज कराने में सक्षम नहीं हैं, उनके लिये चैरिटेबुल हास्पिटल को अपनी सेवाओं को और सुदृढ़ करना चाहिये। इस कार्य में जिला प्रशासन एवं इण्डियन रेडक्रास सोसायटी द्वारा आवश्यक सहयोग दिया जायेगा। जिलाधिकारी ने यह भी कहा कि कोरोना काल में ऐसे चैरिटेबुल हास्पिटलों को विशेष रूप से कोमार्बिड मरीजों पर भी विशेष ध्यान देना चाहिये।

यह भी पढ़ें: स्वतंत्रता दिवस पर मुख्य अतिथि बनेंगी बनारस की यह मदर टेरेसा

बीते एक सप्ताह के चैरीटेबुल हास्पिटलों द्वारा किये गये कार्यों पर एक नजर:

  1. रामकृष्ण मिशन चिकित्सालय, कौड़िया के बहिरंग में 1521 मरीज देखे गये, इमरजेन्सी 35 एवं इनडोर में 06 भर्ती एवं डायलिसीस 56, सर्जरी के कुल 03 मरीज देखे गये।
  2. माता आनन्दमयी शिवाला में बहिरंग के 1200 मरीज मरीज देखे गये, तथा वाराणसी रीजन थाइलिसियाॅ सोसायटी के सहयोग से 37 बच्चों का ब्लड ट्रान्सफ्यूजन कराया गया।
  3. मारवाड़ी हास्पिटल के बहिरंग में कुल 1050 मरीज देखे गये एवं इमरजेन्सी में 400 मरीजों का ईलाज किया गया।
  4. हिन्दू सेवा सदन के बहिरंग में 96 मरीज देखे गये, 04 सर्जरी एवं इनडोर में 13 मरीज भर्ती किये गये।
  5. जनता सेवा अस्पताल, के बहिरंग में 340 मरीज देखे गये, 03 प्रसूताओं का प्रसव एवं इनडोर में 8 मरीज भर्ती किये गये।
  6. बिड़ला हास्पिटल, मछोदरी के बहिरंग में 350 मरीज देखे गये।
  7. भारत सेवाश्रम संघ, सिगरा के बहिरंग में 310 मरीज देखे गये।
  8. जामीयाँ हास्पिटल, पीलीकोठी के बहिरंग में 92 मरीज देखे गये, 03 प्रसव एवं इनडोर में 42 भर्ती किये गये।
  9. मौलाना आजाद बुनकर हास्पिटल, बड़ीबाजार के बहिरंग में 502 मरीज देखे गये, 22 प्रसव एवं इनडोर में 28 भर्ती किये गये।

यह भी पढ़ें: यूपी पुलिस के सामने सरेंडर करने से खौफ खाते हैं माफिया, सरेंडर और शूट के सियासी संरक्षण की दिलचस्प है कहानी



footer
Top