logo
add image

लॉकडाउन में झांसा देकर बंगलुरू की पेमेंट कंपनी ने की करोड़ों की धोखाधड़ी

लॉकडाउन में झांसा देकर बंगलुरू की पेमेंट कंपनी ने की करोड़ों की धोखाधड़ी

- रिचार्ज के नाम पर दुकानदारों के माध्यम से लोगों को लगाया चूना

- पांच महीने की वैलिडिटी बताकर प्रति सदस्य 699 का कराया रिचार्ज

मिर्जापुर । काशीलाइव

लॉकडाउन के दौरान जहां पूरी दुनिया मानवता के पक्ष में आकर एक-दूसरे की मदद में जुटी रही, वहीं कुछ कंपनियों ने इस मौके का फायदा उठाया। बंगलुरू की स्मार्ट पे नाम की कंपनी ने मिर्जापुर सहित आसपास के जिलों ने करोड़ों की ठगी की है और इसका खामियाजा रिचार्ज कराने वाले सौकड़ों लोग भुगत रहे हैं। ताजा मामला कछवा में मोबाइल के  दुकान से जुड़ी है जहां रिचार्च के नाम पर  धोखाधड़ी हुई। कुछ दिन पहले स्मार्ट पे के रिचार्ज के नाम पर उपभोक्ताओं से कहते थे कि ₹699 वसूले गए बदले में अगले 5 महीने तक नेट और बैधता फ्री काल की गारंटी दी गई। 

चेन बनाकर हुआ पूरा खेल

इस फर्जी स्कीम फ्री डाटा, कालिंग के साथ ही किसी भी कंपनी के सिम को रिचार्ज करने की सहूलियत दी गई। इससे लोगों की चेन बनती गई और 699 रुपये देकर लाभ कमाने की हसरत ने सैकड़ों लोगों को शिकार बना लिया। लोगों को लगा कि स्कीम अच्छी है और कई लोगों ने रिचार्ज कराया। इससे उनके मोबाइल पर ₹199 का रिचार्ज 28 दिन का रिचार्ज कराकर टाइम कंज्यूम किया गया ताकि और लोग भी जाल में फंस सके।

दुकान के माध्यम से बनाया शिकार

बंगलुरू की स्मार्ट पे कंपनी ने दुकानदारों को भी इसकी भनक नहीं लगने दी और 699 लेकर 199 के रिचार्ज को महीना भर बीत गया तो दुकानदारों ने भी हाथ खड़े कर दिए। दबाव पड़ने पर दुकानदारो ने जवाब दिया कि अभी कुछ दिन बाद हो जाएगा लेकिन किसी का भी रिचार्ज नहीं हुआ। मामला हाथ से निकलने पर स्थानी दुकानदार ने कहा कि हमारे साथ फर्जीवाड़ा हुआ है।

पीड़ितों ने बताई अपनी व्यथा

फर्जीवाड़े के शिकार लोगों ने बताया कि मिर्जापुर क्षेत्र के एक व्यक्ति ने आकर मुझे स्मार्ट पे के बारे में बताया था। वह लोगों को अपनी गोल-गोल बात में घुमाने लगा लेकिन जब कुछ लोग दुकानदार पर डालने लगे तो वह कुछ लोग का  रिचार्ज किया । ऐसे दुकानदार ने लोगों को चूना लगाया। फर्जीवाड़े का शिकार हुए लोगों ने बताया को मामले की जांच की जाय तो यह करोड़ों का घोटाला होगा।
 



footer
Top