logo
add image

घर में घुसकर बदमाशों ने की युवक की सिर कूंचकर हत्या, 3.5 लाख के जेवर व नकदी लेकर फरार

घर में घुसकर बदमाशों ने की युवक की सिर कूंचकर हत्या, 3.5 लाख के जेवर व नकदी लेकर फरार

वाराणसी। काशीलाइव
लंका थानाक्षेत्र इंद्रानगर कालोनी के एक मकान में चोरी के इरादे से घुसे बदमाशों ने युवक की सिर कूंचकर हत्या कर कर दी, और वहां से 3.5 लाख के जेवर समेत 40 हजार की नकदी लेकर भाग गए। घटना की जानकारी परिजनों को सुबह हुई। जब उनको उनका कमरा बाहर से लाॅक मिला। उन्होंने इसकी जानकारी पड़ोसियों को फोन करके दी। उसके बाद उन्होंने घटना की सूचना पुलिस को दी। मौके पर एसएसपी अमित पाठक व अन्य पुलिस अधिकारियों के साथ फारेंसिक विभाग की टीम जांच में जुट गई है।

मिली जानारी के अनुसार के अनुसार इलहाबाद के बरोडा के रहने वाले ब्रम्हानंद दुबे ने कुछ वर्षों पहले लंका थानाक्षेत्र के इंद्रानगर कालोनी में किराये का मकान लिया था। जहां उनका 26 वर्षीय बेटा विशाल दुबे व उसका परिवार रहता था। गुरुवार की देर रात बदमाशों ने किसी समय बाउंड्री फांदकर घर भीतर कूदे और किचन का दरवाजा तोड़कर लॉबी में घुसे। इसके बाद कमरे के चैनल में ताला तोड़कर सीधे विशाल के कमरे घुसे जहां उसपर किसी धारदार हथियार से हमला कर दिया। घटना के बाद मौके पर ही विशाल की मौत हो गई।

इसके बाद बदमाशों ने बगल में कमरे में सो रही मां अर्चना और भाभी के कमरे का कुंडी बाहर से बन्द कर दिया और घर में पड़ा नकदी समेत गहने समेट के चंपत हो गए। सुबह उठने पर दरवाजा नहीं दरवाजा नहीं खुला तो विशाल की मां ने पड़ोसियों को फोन कर कमरा बंद होने की जानकारी दी। पड़ोसी मौके पर पहुंचे तो वहां की हालात देखकर सन्न रह गए फर्श पर विशाल का शव खून से लथपथ पड़ा था।

यह भी पढ़ें: कोरोना के बढ़ते दायरे के साथ निरंतर बढ़ाया जा रहा है मानव एवं अन्य चिकित्सा संसाधन 

वहीं मौके पर शराब व बियर की बोतलें पड़ी थी। जिसके बाद घबराये परिजनों ने घटना की जानकारी पुलिस को दी। मौके पर एसएसपी समेत पुलिस के कई अधिकारी व फांरेसिक विभाग की टीम भी पहुंच गई और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मृतक का बड़ा भाई वैभव दुबे प्रतापगढ़ में बिजली विभाग में जेई के पद पर नौकरी करता है। वहीं युवक के पिता ब्रह्मानंद दुबे रिटायर्ड शिक्षक हैं। मूल रूप से इलाहाबाद के बड़ोद के रहने वाले हैं। मालकिन मीरा राय पटना में रहती हैं दूसरे तल पर उनका पूरा सामान रखा पड़ा है।

यह भी पढ़ें: वादा किया था लौट कर आने का, आया तिरंगे में लिपट कर



footer
Top